सड़क दुर्घटना में घायल हुए 07 वर्षीय योगेश : जिलाधिकारी की अस्पताल में सुरक्षा की बढ़ाई, बच्चे के उच्चतम चिकित्सा सुनिश्चित करने के निर्देश

ख़बर शेयर करें -

सड़क दुर्घटना में घायल हुए 07 वर्षीय योगेश: जिलाधिकारी की अस्पताल में सुरक्षा की बढ़ाई, बच्चे के उच्चतम चिकित्सा सुनिश्चित करने के निर्देश।

 

उधम सिंह राठौर  – प्रधान संपादक

 

छिड़ाखान-मीडार की सड़क दुर्घटना में घायल हुए 07 वर्षीय योगेश का हाल जानने जिलाधिकारी सुशीला तिवारी अस्पताल पहुंची। आज सड़क दुर्घटना में 07 वर्षीय बच्चा गंभीर रूप से घायल हुए था जिसका ईलाज सुशीला तिवारी अस्पताल में चल रहा है। जिलाधिकारी ने प्राचार्य और चिकित्सकों को घायल बच्चे को बेहतर ईलाज देते हुए विशेष सावधानी बरतने के निर्देश दिए। आवश्यकता पड़ने पर बच्चे को हायर सेंटर रेफर करने को भी कहा।

 

 

 

इसके साथ ही वार्ड में भर्ती 02 वर्षीय खुशी सावंत निवासी लालकुआ जो की लगभग एक माह से अस्पताल में एडमिट है का भी हाल जाना। मौके पर उनके परिजनों ने बताया कि उनका राशन कार्ड में नाम दर्ज न होने के कारण आयुष्मान कार्ड नहीं बन पा रहा है। सिटी मजिस्ट्रेट को अस्पताल में भर्ती बच्ची खुशी और उनकी माता का नाम राशन कार्ड में दर्ज करवाने के निर्देश दिए। साथ ही वार्ड में भर्ती अन्य बच्चों का हाल चाल जाना। चिकित्सकों को मरीजों को हर हाल में अस्पताल से ही दवाई उपलब्ध कराने को कहा। कहा कि किसी भी कीमत में बाहर से दवाई न लिखी जाए। मौके पर प्राचार्य ने चिकित्सकों को बाहर से दवाई न लिखने के निर्देश दिए। कहा कि अस्पताल में ही सभी प्रकार को एंटी बायोटिक्स उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें 👉  "विधानसभा के बजट सत्र में मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी की सक्रिय भूमिका"

 

 

जिला मजिस्ट्रेट वन्दना ने उप जिला मजिस्ट्रेट धारी को घटना की मजिस्ट्रेट जांच के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि सभी शवों का पोस्टमार्टम उसी क्षेत्र में करवा दिया गया है। साथ ही कल उनके अंतिम संस्कार की व्यवस्था प्रशासन द्वारा की गई है, एसडीएम धारी, तहसीलदार धारी समेत प्रशासन की पूरी टीम वहां पर अंतिम संस्कार के दौरान मौजूद रहेगी।

 

 

प्रातः 08-00 बजे छिड़ाखान मीडार मोटर मार्ग, खनस्यूं में एक कैम्पर/पिकप के अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिरने की सूचना प्राप्त होते ही राजस्व टीम, तहसीलदार एवम् उप जिलाधिकारी घटनास्थल को रवाना हो गये। लगभग 11-00 बजे तहसीलदार, खनस्यू मय राजस्व टीम एवम् 11-20 बजे उप जिलाधिकारी, धारी घटनास्थल पर पहंुचे तथा उनके द्वारा बचाव कार्य प्रारम्भ किया गया तथा, 04 चिकित्सक, मेडिकल टीम मय 04 एम्बुलैंस 11-00 बजे घटनास्थल पर पहुंची। रेस्क्यू कार्य में स्थानीय निवासियों द्वारा काफी योगदान दिया गया। घायलों को प्राथमिक उपचार के उपरान्त तत्काल रैफर किया गया तथा मेडिकल टीम के माध्यम से मृतकों का मौके पर ही पोस्टमार्टम कराया गया।

यह भी पढ़ें 👉  "भारत को विश्वगुरू बनाने का दृढ़ संकल्प: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का वर्चुअल संबोधन और विकसित भारत संकल्प 2024 की महत्वपूर्ण मेगा प्रदर्शनी"

 

 

घटना स्थल के तहसील/मुख्यालय से अत्यधिक दूरी होने एवम् पर्वतीय मार्ग होने के कारण राजस्व विभाग की टीम को पहंुचने में विलम्ब हुआ है। घटना की सूचना प्राप्त होते ही टीमें अपने-अपने गन्तव्य से रवाना हुई है। हल्द्वानी मंे भी नगर मजिस्टंेट, उप जिलाधिकारी/तहसीलदार की टीमों का गठन करते हुए घायलों को बेहतर उपचार दिये जाने का प्रयास किया गया है। घटना की विस्तृत जांच एवम् कारणों का पता लगाये जाने हेतु उप जिलाधिकारी, धारी को नामित किया गया है। मृतकों के परिजनों को आर्थिक सहायता हेतु आर्थिक सहायता राशि के चैक आज ही निर्गत कर दिये गए है, जिसका वितरण कल प्रातः तक सुनिश्चित कर दिया जायेगा। यह भी अवगत कराना है कि विगत माह ग्रामीणों के द्वारा शिकायत की गयी थी कि कई वर्षों से अनुरोध करने के बावजूद भी इस मार्ग की मरम्मत/सुधारीकरण नहीं किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना की और देश व प्रदेश की खुशहाली की कामना की।

 

 

ग्रामीणों की शिकायत का गम्भीरता से संज्ञान लेने के उपरान्त अधिकारियों की टीम से मार्ग का निरीक्षण कराते हुए तकनीकी समिति के माध्यम से परीक्षण कराते हुए कुछ दिन पूर्व सड़क मार्ग के तात्कालिक सुधार हेतु राज्य आपदा मोचन निधि (एस॰डी॰आर॰एफ॰) के अन्तर्गत (मार्ग के सतह समतलीकरण इत्यादि हेतु) लगभग रूपये 32.00 लाख से अधिक की धनराशि एवम् नॉन-एस॰डी॰आर॰एफ॰ के अन्तर्गत (सुरक्षा दीवार निर्माण इत्यादि की मरम्मत हेतु) लगभग रूपये 14.00 लाख से अधिक की धनराशि सड़क सुरक्षा की दृष्टि से अवमुक्त की गयी है।

 

 

विभाग को उक्त कार्य की निविदा प्रक्रिया शीघ्र आरंभ करते हुए कार्य प्रारंभ करने के निर्देश दिए गए हैं।

error: Content is protected !!