फर्जी नो ड्यूज सर्टिफिकेट तैयार कर बैंक से लिए 27 लाख के ऋण के एवज में बंधक जमीन को आजाद कराने वाले, आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

ख़बर शेयर करें -

फर्जी नो ड्यूज सर्टिफिकेट तैयार कर बैंक से लिए 27 लाख के ऋण के एवज में बंधक जमीन को आजाद कराने वाले, आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

 

उधम सिंह राठौर – प्रधान सम्पादक

 

रुद्रपुर –  कोतवाली पुलिस की टीम ने बैंक का फर्जी नो ड्यूज सर्टिफिकेट बनाकर 27 लाख के ऋण के एवज में बंधक जमीन को आजाद करवाने के मामले मैं एक आपराधिक मामले का खुलासा करते हुए षड्यंत्र से जुड़े पांच आरोपियों में से एक आरोपी को गिरफ्तार कर के जेल भेज दिया गया। कोतवाली रूद्रपुर में मैनेजर कोटेक महेन्द्रा बैक भानू प्रताप सिंह ने गजराज सिंह,श्याम बिहारी,मुकेश कुमार,टीकाराम और मोहन देई पत्नी छेदा लाल निवासी ग्राम गहलुईया तहसील बहेड़ी के विरुद्ध दिनाक- 19/08/2023 को रुद्रपुर कोतवाली मे एक मुकदमा FIRN0-478/2023और धारा 406/420/467/468/471सहित भा0द0वि0 वादी पजीकृत कराया मुकदमे के अनुसार पांचो लोगों ने दिनांक 31-07-2014 को कृषि ऋण खाता.सं0 604044010234 से एक कृषि ऋण अंकन मु0 27,00,000 का लोन लिया, जिसमें गजराज सिंह के भाई मुकेश कुमार ,टीकाराम उक्त कृषि ऋण के गारंटर भी थे।

यह भी पढ़ें 👉  SSP NAINITAL के निर्देश पर ईद-उल-अजहा के दृष्टिगत कोतवाली हल्द्वानी एवं रामनगर पुलिस ने की पीस कमेटी की मीटिंग,शांति और सौहार्द्र बनाए रखने की अपील।

 

 

कृषि ऋण खाते का गजराज सिंह,राम आसरे,श्याम बिहारी,श्रीमति मोहन देई, मुकेश कुमार और टीकाराम के उपर वर्तमान मे कुल बकाया मु0 46,59,438,80 रू0 है और बंधक कृषि भूमि के राजस्व अभिलेखो (खतौनी) पर बैंक के कृषि ऋण को दर्ज करवा दिया गया ।ऋण अनुबंध के विपरीत गजराज सिंह,राम आसरे,श्याम बिहारी,श्रीमति मोहन देई,मुकेश कुमार और टीकाराम को बैंक से लिया गया ऋण सही समय पर ब्याज सहित किश्तों में चुका कर बैंक से नोड्यूज प्रमाण पत्र प्राप्त कर उक्त कृषि ऋण के लिए गिरमी रखी अपनी कृषि भूमि से बैंक का मुक्त करवाना था पर जिसमे उपरोक्त पांचो लोगों की और से बैंक से लिया गया।

 

 

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी क्षेत्र के स्पा सेन्टरों में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने किया औचक निरीक्षण, अनियमितता पाये जाने पर 83 पुलिस एक्ट के तहत किया चालान।

 

कृषि ऋण और ब्याज नही चुकाया गया था। दिनॉक 29-06-2020 को उक्त ऋण खाता एन0पी0ए0 हो गया।बैंक के कर्मचारियो की और से बार-बार उपरोक्त पांचो लोगों से ऋण के भुगतान का तकादा करने पर ऋण नहीं चुकाया पर जब बैंक की और गजराज सिंह,राम आसरे,श्याम बिहारी,श्रीमति मोहन देई,मुकेश कुमार और टीकाराम के द्वारा बैंक के पक्ष में बंधक की गई कृषि भूमि के राजस्व अभिलेखों का आनलाईन सत्यापन किया गया तो बैंक को मालूम हुआ कि बंधक कृषि भूमि में से ग्राम मोहिउद्दीनपुर तहसील बहेड़ी जिला बरेली के अभिलेखो (खतौनी) पर बैंक का कोई भी चार्ज दर्ज नहीं है।

 

 

बैंक की और से बंधक कृषि भूमि की पिछली फसली वर्ष की खतौनी का अवलोकन करने पर यह भी मालूम हुआ कि उपरोक्त पांचो लोगों ने षड्यंत्र कर बदनीयति से एक जुट होकर बैक के साथ धोखाधड़ी कर बैंक से लिए गये ऋण को हड़पने की बुरी नियत से उक्त कृषि ऋण का एक फर्जी नो ड्यूज सर्टिफिकेट बनाकर उसे बैक द्वारा प्रदत्त असली नो ड्यूज सर्टिफिकेट की तरह इस्तेमाल कर तहसील कार्यालय बहेड़ी मैं जिला-बरेली में दाखिल कर तहसील कर्मियो की मिली भगत से कोटक महिन्द्रा बैंक के पक्ष में बंधक की गई कृषि भूमि को बंधक से आजाद करा लिया है।वर्तमान समय में उपरोक्त पांचवा आरोपियों पर बैंक का 46,59,438,80 रू0 ब्याज समेत बकाया भी चल रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  कैची धाम मेले में लगे पुलिस बल को डीआईजी कुमायूॅ रेन्ज एवं एसएसपी नैनीताल ने किया ब्रीफ**"अतिथि देवो भवः" के भाव एवं "मित्रता सेवा सुरक्षा" के साथ अपने कर्तव्य का निर्वहन करने के दिये निर्देश*

 

 

 

मामले की जांच कर रही रुद्रपुर कोतवाली पुलिस टीम के निरीक्षक विक्रम राठौर,SSI कमाल हसन और उ0नि0 महेश काण्डपाल ने इस पूरे मामले की जांच के बाद पांच आरोपियों में से एक आरोपी को गिरफ्तार कर केजेल भेज दिया।.मगर पुलिस इस पूरे मामले शमिल और भी आरोपियों के गिरफ्तारी का प्रयास पुलिस की टीम तेजी से कर रही है।

error: Content is protected !!